वाराणसी में घूमने के लिए सर्वश्रेष्ठ और लोकप्रिय पर्यटन स्थल | Best and Popular Tourist Places to Visit in Varanasi

Best & Popular Tourist Places to Visit in Varanasi : वाराणसी को काशी और बनारस के रूप में भी जाना जाता है, यह हिंदू धर्म के सात पवित्र शहरों में से एक है और भारत में एक प्रमुख धार्मिक केंद्र है। पवित्र शहर वाराणसी गंगा नदी के तट पर स्थित है और मंदिर, घाट, अखाड़ा, स्ट्रीट फूड (जैसे - ठंडाई, लस्सी), पान, बनारसी संगीत, बनारसी साड़ी और बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के लिए प्रसिद्ध है।


Best & Popular Tourist Places to Visit in Varanasi

अगर आप वाराणसी जाते हैं, तो नीचे बताए गए कुछ Places में घूमने ज़रूर जाएँ. यहाँ हमने काशी के कुछ पॉप्युलर टूरिस्ट प्लेसेज की जानकारी दी गई, जो आपके काम आएगी. वाराणसी भारत में घूमने योग्य सबसे अच्छे स्थानों में से एक है, जो लाखों घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों को आकर्षित करता है।

Best and Popular Tourist Places to Visit in Varanasi


शहर घाटों, मंदिरों और सांस्कृतिक विरासत से समृद्ध कई स्थानों का घर है। Best Places to Visit in Varanasi निम्न हैं :

  • रामनगर क़िला (Ramnagar Fort)
  • जंतर मंतर (Jantar Mantar)
  • बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (Banaras Hindu University - BHU)
  • सारनाथ (Sarnath)
  • मंदिर (Temples)
  • पॉप्युलर घाट (Popular Ghats)


रामनगर क़िला

गंगा नदी के पास स्थित रामनगर किला, तुलसी घाट के सामने गंगा नदी के दाहिने किनारे का सुंदर दृश्य प्रस्तुत करता है। इस किला और महल को काशी नरेश द्वारा बनवाया गया था और वर्तमान में एक संग्रहालय और दर्शनीय स्थान है।


जंतर मंतर

वाराणसी का जंतर मंतर महाराजा जय सिंह द्वितीय द्वारा निर्मित भारत के पांच जंतर मंतरों में से एक है। महाराजा जय सिंह द्वितीय ने वाराणसी, जयपुर, मथुरा, नई दिल्ली और उज्जैन में कुल 5 जंतर-मंतर का निर्माण करवाया था। वाराणसी में बनी वेधशाला (observatory) सूर्य, सितारों और ग्रहों की झुकाव को मापती है और यहाँ पर समय की गणना की जाती है।


बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (BHU)

बनारस हिंदू विश्वविद्यालय एशिया का सबसे बड़ा आवासीय विश्वविद्यालय है और इसका परिसर 1300 एकड़ में फैला है। बीएचयू में बने 'न्यू श्री विश्वनाथ मंदिर' में दुनिया का सबसे ऊंचा मंदिर टॉवर है।


सारनाथ

सारनाथ वाराणसी शहर से लगभग 10 किमी दूर स्थित है और बोधगया और कुशीनगर के साथ दुनिया के सबसे पवित्र बौद्ध स्थलों में से एक है। धमेक स्तूप, धर्मराजिका स्तूप और चौखंडी स्तूप सारनाथ के कुछ सबसे ऊंचे स्तूप और प्रभावशाली संरचना हैं।


मंदिर

वाराणसी को हिंदू धर्म के 7 पवित्र शहरों में से एक माना जाता है. इसे मंदिरों का शहर में कहते हैं. जीवनदायिनी पवित्र गंगा नदी के तट पर बसी इस धार्मिक नगरी में आपको अनेकों प्राचीन मंदिर देखने को मिल जाएँगे. जिनमे से कुछ मुख्य मंदिर निम्न हैं :-

  • काशी विश्वनाथ मंदिर,
  • श्री विश्वनाथ मंदिर,
  • दुर्गा कुंड मंदिर,
  • अन्नपूर्णा देवी मंदिर,
  • संकटा देवी मंदिर,
  • विशालाक्षी गौरी मंदिर,
  • ललिता गौरी मंदिर,
  • संकट मोचन हनुमान मंदिर,
  • काल भैरव मंदिर,
  • रत्नेश्वर महादेव मंदिर,
  • मृत्युंजय महादेव मंदिर,
  • तिलभांडेश्वर महादेव मंदिर,
  • पशुपतिनाथ महादेव मंदिर (नेपाली मंदिर),
  • तुलसी मानस मंदिर,
  • भारत माता मंदिर।


वाराणसी के पॉप्युलर घाट (Popular Ghats in Varanasi)

मंदिरों के शहर बनारस गंगा के तट पर स्थित है, इसलिए यहाँ के घाट भी स्पेशल और पवित्र माने जाते हैं. इन घाटों पर गंगा नदी की संध्या आरती भी होती है, जो देखने लायक़ होती है. वाराणसी के कुछ मुख्य घाट निम्न हैं :

  • दशाश्वमेध घाट
  • मणिकर्णिका घाटो
  • सिंधिया घाट
  • अस्सी घाटो
  • चेत सिंह घाट


वाराणसी में कौन सा घाट सबसे ज़्यादा प्रसिद्ध है?

दशाश्वमेध घाट वाराणसी में गंगा नदी पर स्थित प्रमुख घाट है। यह विश्वनाथ मंदिर के करीब स्थित है और संभवत: काशी का सबसे शानदार घाट माना जाता है। इसके साथ दो हिंदू किंवदंतियां जुड़ी हुई हैं जिसमें से एक के अनुसार माना जाता है कि भगवान ब्रह्मा ने इसे भगवान शिव के स्वागत के लिए बनाया था।


वाराणसी का अस्सी घाट क्यों प्रसिद्ध है?

घाटों के शहर में अस्सी घाट वाराणसी के सबसे प्रसिद्ध घाटों में से एक है, जहां हर साल हजारों तीर्थयात्री आते हैं। गंगा नदी के तट पर स्थित अस्सी घाट तीर्थयात्री एक पीपल के पेड़ के नीचे स्थित शिवलिंग पर जल चढ़ाने के लिए भी आते हैं।


वाराणसी का सबसे पुराना घाट कौन सा है?

वाराणसी का मणिकर्णिका घाट सबसे पुराना माना जाता है। मणिकर्णिका घाट भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के वाराणसी शहर में पवित्र गंगा नदी के किनारे स्थित सबसे पवित्र हिंदू श्मशान घाटों में से एक है।


वाराणसी में गंगा क्यों प्रसिद्ध है?

साहित्य के कई हिंदू कार्यों ने गंगा नदी को पवित्रता की देवी के रूप में प्रस्तुत किया है। ऐसा माना जाता है कि जो व्यक्ति नदी में डुबकी लगाता है, उसे उसके किए गए सभी पापों से मुक्ति मिल जाती है। वाराणसी शहर गंगा के किनारे बसा है। वाराणसी में 88 घाट (नदी की ओर जाने वाली सीढ़ियाँ) हैं।

Tags

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.